Jeevan rekha. Jeevan rekha in hindi. जीवन रेखा, हस्त रेखा।

About Me

Jeevan rekha. Jeevan rekha in hindi. जीवन रेखा, हस्त रेखा।

जीवन रेखा - Life Line

https://www.rishabhshrivastava.com/

जीवन रेखा- हमारे पुराणों से चलती आ रही प्रथा के अनुसार हमारे जीवन में हस्त रेखा का बहुत महत्व है, जो हमारे हर घटना क्रम का वर्णन करती है, जीवन रेखा हमें आयु व जीवन से सम्बंधित  जानकारी प्रदान करती है.

जीवन रेखा कौन सी होती है- जीवन रेखा का स्थान अंगूठे के आधार से प्रारम्भ होकर हथेली को पार् करते हुए वृत्त के आकार मे कलाई के पास आकर मिलती है, यह बहुत प्रभावशील रेखा मानी जाती है।


जीवन रेखा कहां होती है? (Life Line in Hand): जीवन रेखा का घेराव अंगुठे के निचले क्षेत्र में होता है। यह शुक्र का क्षेत्र माना जाता है। यह रेखा तर्जनी और अंगुठे के मध्य से शुरु होकर मणिबंध तक जाती है। इसका फैलाव एक आर्क की तरह होता है।

जीवन रेखा का सम्बन्ध- इस रेखा का सम्बन्ध शारीरिक शक्ति को परखने के साथ-साथ रोग प्रतिरोधक क्षमता व स्वास्थ्य सम्बंधित महत्वपूर्ण बातो की जानकारी का वर्णन करने से होता है,  इस रेखा से ही मनुष्य अपनी आयु और रोगों का पता लगा सकता है। 


जीवन रेखा पर इस वीडियो को जरूर देखे  --


हाथों की लकीरों में ही इंसान के जीवन-मरण का सारा रहस्य छुपा होता है। जीवन चक्र के इस रहस्य को बताने वाली इस रेखा को ही जीवन रेखा (Life Line in Hands/ Palm) कहा जाता है
। आइए इसके कुछ प्रकार के बारे में चर्चा करते है।


जीवन रेखा छोटी हो

https://www.rishabhshrivastava.com/

अगर हाथ में जीवन रेखा छोटी हो तो आप ये मत समझिए कि व्यक्ति की अल्पायु होगी, क्योंकि अगर हृदय रेखा लंबी हो और जीवन रेखा छोटी हो तो भी व्यक्ति दीर्ध आयु वाला होता है और अगर जीवन रेखा लंबी हो और हृदय रेखा छोटी हो तो तब भी व्यक्ति दीर्ध आयु वाला ही माना जाता है।

जीवन रेखा लम्बी व गहरी हो

https://www.rishabhshrivastava.com/

हाथ में जीवन रेखा का बड़ा महत्‍व है। इस रेखा को सरल भाषा में जीवन का आइना भी कहा जा सकता है। अगर किसी व्यक्ति की जीवन रेखा लम्बी व गहरी है तो ऐसा व्यक्ति अच्छे स्वास्थ्य, सहनशक्ति को दर्शाता है।

जीवन रेखा दोहरी व तिहरी हो

https://www.rishabhshrivastava.com/

अगर जीवन रेखा दोहरी व तिहरी रेखा में दिखाई देती है तो ऐसे व्यक्ति सकारात्मक ऊर्जा से घिरे होते है व उनमे सहनशीलता की अपार क्षमता होती है। साथ ही ये अपने जीवन में सकारात्मक सोच के साथ आगे बढ़ते चले जाते है|

जीवन रेखा टूटी हो

https://www.rishabhshrivastava.com/

अगर मनुष्य की जीवन रेखा बहुत जगह से टूटी है तो ऐसे व्यक्ति को जीवन में संघर्ष, जीवन में अनेक बदलावों को दर्शाता है तथा अगर ये जीवन रेखा कलाई वाले भाग में टूटकर आगे बढ़ती हुई है तो इससे यह पता चलता है कि उन जातकों का बचपन बड़ी कठिनाइयों के साथ गुजरा हुआ है।



जीवन रेखा का आभाव हो

https://www.rishabhshrivastava.com/

अगर हथेली में जीवन रेखा का आभाव हो तो ऐसे जातक अपने जीवन में बहुत कठिनाइयों का सामना करते है और वे लोग हमेशा चिंतित रहते हुए जीवन में आगे बढने का प्रयास करते है और इनका स्वभाव कभी - कभार चिड़चिड़ा भी दिखाई पड़ता है|

जीवन रेखा जंजीरनुमा हो

https://www.rishabhshrivastava.com/

अगर जीवन रेखा जंजीर नुमा होती है तो आप बहुत अस्वस्ध पैदा हूए होते है, ऐसे व्यक्ति का स्वास्थ्य मौसम के अनुसार कभी - कभार परिवर्तन होते रहता है जैसे- सर्दी जुखाम इत्यादि|

जीवन रेखा से शाखा ऊपर को हो

https://www.rishabhshrivastava.com/

अगर व्यक्ति की जीवन रेखा में शाखाएं ऊपर को जाती हुई है तो ऐसे लोग उपलब्धि व सफलता को आसानी से प्राप्त करने वाले होते है| इन्हें हर जगह अपनी काबिलियत के अनुसार सफलता प्राप्त होती रहती है|

जीवन रेखा से शाखा नीचे को हो

https://www.rishabhshrivastava.com/

अगर व्यक्ति की जीवन रेखा में शाखाएं नीचे की ओर झुकी हुई हो तो यह स्वास्थ्य के प्रति संवेदनशील मानी जाती है। ऐसे लोग काम - काज में भी काफ़ी फुर्तीले माने जाते है|



जीवन रेखा अंत में दो भागो में विभाजित हो

https://www.rishabhshrivastava.com/

अगर जीवन रेखा अंत से दो भागो में विभाजित होकर एक चन्द्र पर्वत व दूसरी शुक्र पर्वत पर जाती है तो ऐसे व्यक्ति व्यापारी होते है और व्यापार के क्षेत्र में सफलता प्राप्त करने के लिए अपना देश छोड़कर विदेश में बसने का मन बनाकर चलता है।

जीवन रेखा अंत से विभाजित ना हो

https://www.rishabhshrivastava.com/

अगर जीवन रेखा अंत में विभाजित नहीं होती है व शुक्र पर्वत (अंगूठे का निचला क्षेत्र) तक जाये तो ऐसे वयक्ति हमेशा के लिए अपने ही देश में बसते है और इनको अपने देश के प्रति बहुत ज्यादा लगाव होते है|

जीवन रेखा अंत गुच्छे जैसा हो

https://www.rishabhshrivastava.com/

अगर जीवन रेखा अंत गुच्छे जैसी हो ऐसे जातकों की दीर्घायु होते है साथ ही ऐसे व्यक्ति बुढ़ापे में अकेले रहना पसंद करते है| परिवार के साथ न रहकर, बुढ़ापे में अकेले जीवन जीने का इनका कुछ अलग सा ही अंदाज होता है|




जीवन रेखा का फल (Life Line Reading in Hindi): जीवन रेखा को पढ़ने (Read Life Line in Palmistry in Hindi) से ही इंसान की आयु और उसके जीवन में रोगों आदि का पता चल पाता है।

* जीवन रेखा लंबी,पतली, साफ हो और बिना किसी रुकावट के होनी चाहिए।
* अगर जातक के हाथों में जीवन रेखा पर कई जगह छोटी-छोटी रेखाएं कट या क्रॉस (Meaning of Cross on life line in Hindi) कर रही हैं तो यह अच्छी सूचना नहीं देते।
* जीवन रेखा पर अगर कहीं रेखाएं स्टार का निशान बनाएं तो यह रीढ़ की हड्डी से संबंधित बिमारियों की निशानी होती है। सफेद बिंदु आंखो की समस्या को दर्शाता है। जीवन रेखा पर काला धब्बा या तिल या क्रॉस एक्सीडेंट की तरफ इशारा करते हैं। लेकिन अगर यह इन को पार कर जाए तो इसका अर्थ है कि जातक जीवन में परेशानियों से देर-सवेर उभर ही जाएगा।


FOR MORE INFORMATION - CLICK HERE

Post a Comment

0 Comments